विजन और मिशन

 केन्द्रीय विद्यालय का मिशन

केन्द्रीय विद्यालयों के प्रमुख चार मिशन इस प्रकार है -

1. केन्द्रीय सरकार के स्थानांतरणीय कर्मचारियों जिनमें रक्षा तथा अर्धसैनिक बलों के कर्मी भी शामिल हैं, के बच्चों को शिक्षा के सामान्य कार्यक्रम के तहत शिक्षा प्रदान कर उनकी शैक्षिक अवश्यकताओं को पूरा करना । 
2. .
विद्यालयी शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठता और गति निर्धारित करना । 
3. 
केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी०बी०एस०ई) राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद् (एन.सी.ई.आर.टी.) इत्यादि जैसे अन्य निकायों के सहयोग से शिक्षा के क्षेत्र में नए-नए प्रयोग तथा नवाचार को सम्मिलित करना । 
4. 
बच्चों में राष्ट्रीय एकता और भारतीयताकी भावना का विकास करना ।

 

उद्देश्य

 

Ø         केन्द्रीय सरकार के स्थानांतरणीय कर्मचारियों जिनमें रक्षा तथा अर्धसैनिक बलों के कर्मी भी शामिल हैं , के बच्चों को शिक्षा के सामान्य कार्यक्रम के तहत शिक्षा प्रदान कर उनकी शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करना।

Ø    विद्यालयी शिक्षा के क्षेत्र में श्रेष्ठता और गति निर्धारित करना ।

Ø          केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सी.बी.एस.सी.) राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रषिक्षण परिषद् (एन.सी.ई.आर.टी.) इत्यादि जैसे अन्य निकायों  के सहयोग से शिक्षा के क्षेत्र में नये-नये प्रयोग तथा नवाचारो को सम्मिलित करना |

Ø    बच्चों में राष्ट्रीय एकता और भारतीयता की भावना का विकास करना । 

 

प्रमुख विशेषताएँ 

    v  सभी केन्द्रीय विद्यालयों में समान पाठयक्रम तथा द्विभाषी माध्यम से शिक्षण

    v   सभी केन्द्रीय विद्यालय केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से संबंध है ।

    v  सभी केन्द्रीय विद्यालय सह शिक्षा व मिश्रित विद्यालय है ।

    v  सभी केन्द्रीय विद्यालयों में कक्षा 5 से 8 तक संस्कृत पढ़ाई जाती है ।  

      v  समुचित शिक्षक विद्यार्थी अनुपात द्वारा शिक्षण की गुणवता को उच्च रखा जाता है |      

         v  कक्षा 8वीं तक के लड़कों और कक्षा 12वीं तक की लड़कियों अनुसूचित जाति/जनजाति के विद्यार्थियों, के.वि.सं. के कर्मचारियों के    बच्चों से कोई ट्यूशन फीस नहीं ली जाती है ।

 

MISSION OF KENDRIYA VIDYALAYA

The Kendriya Vidyalayas have a four - fold mission, viz.,

1. To cater to the educational needs of children of transferable Central Government including Defence and Para-military personnel by providing a common programme of education ;
2. To pursue excellence and set the pace in the field of school education;
3. To initiate and promote experimentation and innovations in education in collaboration with other bodies like Central Board of Secondary Education (CBSE) and National Council of Educational Research and Training (NCERT) etc. 
4. To develop the spirit of national integration and create a sense of "Indianness" among children.

OBJECTIVES

 

Ø            To cater to the educational needs of the children of transferable Central Government employees including Defence and Para-Military personnel by providing a common programme of education;                                                                           Ø  To pursue excellence and set pace in the field of school education;                                                                               Ø  To initiate and promote experimentation and innovativeness in education in collaboration with other bodies like     the Central Board of Secondary Education and National Council of Educational Research and Training etc.                           Ø  To develop the spirit of national integration and create a sense of "Indianness" among children. Memorandum Of Association 

    Ø  To Provide, establish, endow, maintain, control & manage schools, hereinafter called the 'Kendriya Vidyalaya' for the   children of transaferable employees of the Government of India, floating populations & others including those living in   remote & undeveloped locations of the country & to do all acts & things necessary for the conducive to the promotions of such schools.

 

SALIENT FEATURE 

  v             Common text-books and bilingual medium of instructions for all Kendriya Vidyalayas.                                               v  All Kendriya Vidyalayas are affiliated to Central Board of Secondary Education.                                                             v  All Kendriya Vidyalayas are co-educational, composite schools.                                                                                   v  Sanskrit is taught from class VI - VIII.                                                                                                                         v  The quality of teaching is kept reasonably high by an appropriate teacher-pupil ratio.                                                       v  No tuition fee for boys upto Class VIII, girls upto Class XII and SC/ST students and children of KVS employees.